Tuesday , May 21 2024

प्रो.राजेंद्र प्रसाद को लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड

नेशनल सेंटर ऑफ रेस्पिरेटरी एलर्जी, अस्थमा एंड इम्यूनोलॉजी, वल्लभभाई पटेल चेस्ट इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी ऑफ दिल्ली ने सम्मान से नवाजा

लखनऊ : प्रो. राजेंद्र प्रसाद- निदेशक चिकित्सा शिक्षा और प्रोफेसर, रेस्पिरेटरी मेडिसिन, एराज़ लखनऊ मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल व पूर्व प्रमुख, पल्मोनरी मेडिसिन विभाग केजीएमयू को नेशनल सेंटर ऑफ रेस्पिरेटरी एलर्जी, अस्थमा एंड इम्यूनोलॉजी, वल्लभभाई पटेल चेस्ट इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी ऑफ दिल्ली द्वारा लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड प्रदान किया गया है। श्वसन एलर्जी पर उनके उत्कृष्ट कार्यों को देखते हुए उन्हें यह सम्मान प्रदान किया गया है। यह पुरस्कार उन्हें दिल्ली विश्वविद्यालय के वल्लभभाई पटेल चेस्ट इंस्टीट्यूट में श्वसन एलर्जी : निदान और प्रबंधन पर 47वीं कार्यशाला के उद्घाटन समारोह के दौरान प्रदान किया गया। इसके अलावा प्रो. राजेन्द्र प्रसाद को पहले ही नेशनल कॉलेज के लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। चेस्ट फिजिशियन (इंडिया), इंडियन एसोसिएशन फॉर ब्रोंकोलॉजी, थोरैसिक एंडोस्कोपी सोसाइटी ऑफ इंडिया, इंडियन चेस्ट सोसाइटी, ट्यूबरकुलोसिस एसोसिएशन ऑफ इंडिया ,इंडियन कॉलेज ऑफ एलर्जी, अस्थमा और एप्लाइड इम्यूनोलॉजी और लंग इंडिया फाउंडेशन अवार्ड्स से सम्मानित किया जा चुका है।

प्रो. प्रसाद वर्तमान में राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम (एनटीईपी) में मेडिकल कॉलेजों की भागीदारी के लिए राष्ट्रीय टास्क फोर्स के उपाध्यक्ष और यूपी क्षय रोग एसोसिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष हैं। उन्हें भारत में पल्मोनरी चिकित्सा के क्षेत्र में सभी प्रमुख वैज्ञानिक निकायों के अध्यक्ष होने का अद्वितीय गौरव प्राप्त है। वह वर्ष 2022 में श्वसन एलर्जी के निदान के लिए इंडियन गाइडलाइन और भारत में एलर्जेन इम्यूनो थेरेपी के अभ्यास के लिए गाइडलाइन तैयार करने के लिए सक्रिय सदस्य रहे हैं। उन्होंने लगभग 200 शोधों का पर्यवेक्षण किया है, और 400 मूल लेख, समीक्षाएँ और पुस्तक अध्याय प्रकाशित किए हैं। उन्होंने 12 किताबें भी लिखीं, जिनमें एलर्जी और अस्थमा और क्लिनिकल एलर्जी पर दो किताबें, तपेदिक पर चार किताबें और फाइबर ऑप्टिक ब्रोंकोस्कोपी और मैनुअल ऑफ चेस्ट एक्स-रे पर एटलस शामिल हैं।