Monday , May 20 2024

बरेका गुमटी मार्केट के दुकानों के किराए में 400 फीसदी वृद्धि से भड़के दुकानदार

वाराणसी व्यापार मंडल अध्यक्ष अजीत सिंह बग्गा का अल्टीमेटम, बढ़ी दर शीघ्र ही वापस नहीं लिया गया तो बरेका अफसरों के खिलाफ होगी की आरपार की लड़ाई, बरेका व्यापार मंडल का ऐलान, 24 घंटे में मांगे नहीं मानी गयी तो होगा चुनाव बहिस्कार

सुरेश गांधी

वाराणसी : बरेका गुमटी मार्केट की दुकानों के किराएं में एक झटके में 400 फीसदी वृद्धि कर दी गई है। बरेका के इस फैसले से वाराणसी व्यापार मंडल से संबंद्ध बरेका व्यापार मंडल भड़क गया है। व्यापार मंडल का आरोप है कि बरेका प्रशासन ने दुकानदारों को लाखों रुपए के बिल थमा दिए हैं। जबकि 3 साल पहले जिन दुकानदारों का किराया 1200 रुपये था, अब उनसे 32000 रुपये वसूले जाने की नोटिस दर नोटिस भेजी जा रही है। बरेका प्रशासन के इस अड़ियल एवं तानाशाही रवैये से न सिर्फ व्यापारियों के लिए दुकानदारी घाटे का साबित हो रहा है, बल्कि उनके घर-परिवार के लोग मानसिक उत्पीड़न के भी शिकार हो रहे हैं।

शनिवार को बरेका गुमटी मार्केट परिसर में ही आयोजित प्रेसवार्ता में दकानदारों की इस पीड़ा से आहत वाराणसी व्यापार मंडल अध्यक्ष अजीत सिंह बग्गा ने दो टूक में बरेका प्र्रशासन को चेताया है कि यदि शीघ्र ही बढ़ी हुई दर वापस नहीं लिया गया तो अफसरों के खिलाफ आर पार की न सिर्फ लड़ाई होगी, बल्कि सड़कों पर भी उतरा जायेगा। इस दौरान जो भी क्षति होगा, उसके लिए बरेका प्रशासन जिम्मेदार होगा। बग्गा ने कहा कि बरेका ने मनमर्जी से किराए में वृद्धि कर दी है, जिसे दे पाना दुकानदारों के वश से बाहर है। खास यह है कि कारोबारी बढ़े हुए किराए को लेकर कई बरेका प्रशासन से कई बार शिकायतें कर चुका है, बावजूद इसके उन्हें आश्वासन की घुट्टी पिलायी जा रही है। जबकि बरेका की ओर से जारी किए बिलों में कई खामियां भी हैं, जिन्हें लेकर वे डीआरएम से भी बात कर चुके हैं लेकिन वहां से भी कोई राहत मिलती नजर नही आ रही है।

उन्होंने आरोप लगाया कि बरेका अधिकारियों द्वारा दुकानों की पैमाइश भी गलत ढ़ंग से की जा रही है और हर साल दुकानदारों से बढ़ा हुआ किराया लिया जा रहा है। बग्गा ने कहा कि वाराणसी प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र है और व्यापारी उनके एक आह्वान पर कुछ भी करने के लिए तैयार होते है। इसके बावजूद बनारस रेल कारखाना परिसर में 10000 से भी अधिक आवंटित दुकानों के किराए में एक-दो साल में ही 400 फीसदी वृद्धि किया जाना इस बात का संकेत है कि वह व्यापारियों का उत्पीड़न कर रहे है। उनके इस हरकत से व्यापारी परिवारों के समक्ष आजीविका का संकट खड़ा हो गया है। इसकी बड़ी वजह यह है बरेका सिविल विभाग के अधिकारियों द्वारा रेलवे बोर्ड के नाम का गलत इस्तेमाल करके सर्किल रेट एवं आवंटित क्षेत्रफल पर मनमाने ढंग से गणना करना है। इस विषय में सभी साक्ष्यों के साथ पिछले 6 महीने से लगातार व्यापार मंडल स्थानिय जनप्रतिनिधियों को साथ लेकर बरेका महाप्रबंधक से अनेकों बार वार्ता कर समस्या से अवगत करा चुका हैं। हर बार महाप्रबंधक आश्वास करते हैं की त्रुटियों को सही कराया जाएगा, किंतु गलत बिल की वापसी एवं उचित किराया बिल अभी तक जारी नहीं किया गया है। साथ ही गलत बिल पर ब्याज जोड़कर नोटिस पर नोटिस भेजी जा रही है।

अजीत सिंह बग्गा ने कहा कि वाराणसी व्यापार मंडल व्यापारियों के साथ हमेशा खड़ा रहता है। आज बरेका का दुकानदार, जिसका पिछले 20 सालों से आजीविका का एकमात्र साधन बारेका बाजार है। इसके सहारे उनके परिवार का भरण पोषण होता हैं लेकिन बरेका के इस हरकत से उनके परिवार पर आने वाली भुखमरी के संकट की आशंका से वो मानसिक उत्पीड़न झेल रहा है। हालांकि मोदी योगी शासनकाल में ऐसा नहीं हो सकता, पर यदि बरेका प्रशासन इस प्रकार का उत्पीड़न कर रहा है तो यह घोर निंदनीयस हैं। इसकी जितनी भी भर्त्सना की जाएं कम है। यह प्रधानमंत्री के चुनाव का समय है। यदि प्रशासन नहीं चेता तो इन छोटे दुकानदारों की आवाज ऊपर तक पहुंचाई जाएगी।

बरेका व्यापार मंडल संरक्षिका योगिता तिवारी ने बताया कि बाजार में 50 फीसदी महिला दुकानदार हैं, जिनके रोजी-रोटी के प्रति प्रशासन को संवेदनशील होना चाहिए। लेकिन प्रशासन उनके उत्पीड़न पर आमादा है। दुकानदारों के इस उत्पीड़न से बरेका निवासी कर्मचारी गृहणियां भी आक्रोश में है, क्योंकि उनकी रोजगार की जरूरत को यही बाजार कम बजट में पूरा करता है। बरेका व्यापार मंडल के सुरक्षा अध्यक्ष रमेश सिंह ने बताया कि कुछ दुकानदार प्रशासन के दबाव में रोजगार का एकमात्र साधन अपनी दुकान को बचाने के लिए किसी भी प्रकार किराया जमा करने के चक्कर में सुदखारों के चंगुल में भी फंसे जा रहे हैं, जो आने वाले भविष्य में गंभीर समस्या बन सकता है। वाराणसी महिला व्यापार मंडल अध्यक्ष प्रिया अग्रवाल ने कहा कि महिला दुकानदारों की आजीविका से खिलवाड़ होने नहीं दिया जाएगा। प्रेसवार्ता में महिला प्रकोष्ठ के संयोजक बीना सिंह, पुष्पा सिंह, शशि भारती, सुषमा, रिंकू पांडे, सुमन, अंजू, सविता, राजकुमार सिंह, मदनलाल गुप्ता, राजेश सिंह, सचिव वीरेंद्र यादव आदि मौजूद थे।